गौतम बुद्ध का जीवन परिचय आइये जानते है

0
22
gautam-buddha-biography

        गौतम बुद्ध का जीवन परिचय आइये जानते है

gautam buddha biography in hindi हेल्लो, दोस्तों स्वागत है आपका हमारे इस ब्लॉग Techgyan.co पे आज हम नयी सीरीज ले के आये है जिसमे हम महत्वापूर्ण लोगो के जीवन परिचय के बारे में बताएँगे / इस सीरीज की पहली कहानी हम भगवान् गौतम बुद्ध के उपर ले के आये है / तो आइये दोस्तों हम भगवन गौतम बुद्ध के बारे में विस्तार से जानते है /
गौतम बुद्ध का जन्म 483 और 563 ईस्वी पूर्व नेपाल में हुआ था / कपिल वास्तु की महारानी महामाया देवी के अपने नैहर देवदह जाते हुए रास्ते में उनको प्रसव पीड़ा हुई और वही उन्होंने एक बालक को जन्म दिया / उन्होंने अपने शीशु का नाम सिद्धार्थ रखा /
गौतम गोत्र में जन्म लेने के कारण ही वो गौतम भी कहलाये / उनके पिता का नाम सुद्रोधन था, और माता का नाम मायादेवी था / जो की कोली वंश की थी / गौतम बुद्ध के माता मायादेवी की सात दिनों बाद ही उनका निधन हो गया था  /  उनकी माता की निधन के बाद उनका लालन-पालन उनकी मौसी और सुद्रोधन की दूसरी रानी महाप्रजावती (गौतमी ) ने किया था /
 

बालक का नाम सिद्धार्थ रखा गया जिसका अर्थ है “वह जो सिद्धि प्राप्ति के लिए ही जन्मा हो” 

जन्म समारोह के दौरान साधू दुस्टा आसीत ने अपने पहाड़ के निवास से घोषणा किया की यह बालकएक दिन महान पवित्र पथ प्रदर्शक बनेगा / गौतम बुद्ध बचपन से ही करुरातुक्त  और गंभीर स्वभाव के थे  / बड़े होने पे भी उनका स्वभाव नहीं बदला तब उनके पिता ने यशोधरा नाम की एक कन्या से उनका विवाह करा दिया /
कुछ समय के बाद यशोधरा ने एक सुन्दर सा बालक को जन्म दिया जिसका नाम उन्होंने राहुल रखा / पर समय के साथ गौतम बुद्ध का मन अपनी घर ग्रस्ति में नहीं लगा एक दिन वो जंगल में भमण के लिए निकले तो रास्ते में उनको रोगी, वृद्ध, वो मृतक को देखा तो उनको जीवन की सच्चाई का पता चला और वो सोचने लगे की क्या जीवन की येही सच्चाई है इस बात को लेकर वो बहुत ही बेचेन रहने लगे
एक दिन जब महल में सब सो रहे थे तब वो अपनी पत्नी और अपने बेटे को अकेला छोड़ के वन में चले गए और फिर लौट के कभी वापस नहीं आये |

भगवान् गौतम बुद्ध के सुविचार आइये जानते है 

  • बिता हुआ वक़्त वापस नहीं आता है अगर हम ये सोच रहे है की आज का काम कल कर लेंगे पर जो वक़्त आज बीत जायेगा वो वापस नहीं आ सकता है |
  • जिस तरह दिया बिना तेल के नहीं जल सकता उसी प्रकार मनुष्य बिना आद्यात्मिक ज्ञान के नहीं रह सकता /
  • गौतम बुद्ध कहते है की भुत काल में मत उलझो और भविष्य के सपनो में मत खो जाओ वर्तमान में जिओ येही खुश रहने का उत्तम रास्ता है |
  • हर इंसान को ये हक़ मिला हुआ है की वो अपनी दुनिया की खोज खुद करे /
  • हमें हर वक़्त अच्छा सोचना चाहिए क्यूकी  हम जो सोचते है हम वोही बन जाते है इसलिए हमे सकारात्मक बाटे ही सोचना चाहिए |
Conclusion
तो दोस्तों कैसा लगा आप लोगो को हमारा ये पोस्ट जिसमे हमने भगवान् गौतम बुद्ध के विचारों को बताया है / अगर आप लोगो को ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो आप लोग इससे शेयर जरुर करे और हमे कमेंट करके बता सकते है / अगर आप हमारे पोस्ट का Notification चाहते है तो आप हमारे ब्लॉग को फॉलो जरुर करे धन्यवाद /

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here