Angular Kya Hai In Hindi- (Angular Js क्या है )

0
101
Angular Kya Hai In Hindi
Angular Kya Hai In Hindi
89 / 100

 Angular Kya Hai In Hindi- हिंदी में जानकारी 

हेलो दोस्तों आज इस पोस्ट में हम देखेंगे की angular kya hai in hindi क्या है और इसका क्या उपयोग है | और आज के समय में आप जो भी वेबसाइट एप्लीकेशन को देखते हो वो सारे एप्लीकेशन फ्रेमवर्क की मदद से ही बनाये जाते है | आप सोच रहे होंगे की ये फ्रेमवर्क kya होता है | हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से बताने वाले है तो आप बने रहिये हमारी इस पोस्ट के अंत तक |

फ्रेमवर्क क्या होता है – [Angular Kya Hai In Hindi]

टेक्निकल भाषा में फ्रेमवर्क को लाइब्रेरी का समूह कहा जाता है | और इन लाइब्रेरी को एप्लीकेशन बनाने के लिए उपयोग किया जाता है और पूरा एप्लीकेशन development लाइब्रेरी की मदद से ही होता है | आइये जानते कुछ फ्रेमवर्क को
प्रोग्रामिंग लैंग्वेज                 फ्रेमवर्क 
जावा                     –            SPRING, SPRING-BOOT,
जावास्क्रिप्ट               –            एंगुलर,एंगुलर JS, React Js, Vue Js, Backbone
PYTHON               –            DJANGO
PHP                     –           CODEIGNITER
.NET                    –          .NET-MVC

एंगुलर JS – Angular Kya Hai In Hindi

एंगुलर JS एक जावास्क्रिप्ट पर आधारित क्लाइंट साइड फ्रेमवर्क है जिसको गूगल कम्पनी ने बनाया है | इसका मुख्य उद्देश्य यह है की Developers इसकी मदद से वेब एप्लीकेशन और मोबाइल एप्लीकेशन को आसानी से डिजाईन कर सकते है | एंगुलर JS जावास्क्रिप्ट का उपयोग करता एप्लीकेशन को बनाने के लिए , एंगुलर JS को सन 2009 में   Misko Hevery and Adam Abrons ने बनाया | पर 2009 से पहले केवल गूगल कम्पनी इस फ्रेमवर्क का उपयोग अपने गूगल प्रोडक्ट्स को बनाने के लिए उपयोग करता है था और यह बात किसी को नहीं पता था की Internally गूगल के पास कोई फ्रेमवर्क है जो वह उसके एप्लीकेशन डेवलपमेंट के लिए उपयोग  करता है |

Angular Kya Hai In Hindi – एंगुलर JS के क्या फ़ायदे है 

  1. एंगुलर JS की मदद से आप वेब एप्लीकेशन और मोबाइल एप्लीकेशन को आसानी से बना सकते हो |
  2. एंगुलर JS आपको सिंगल पेज एप्लीकेशन (SPA) बनाने की सुविधा प्रदान करता है |
  3. (SPA) सिंगल पेज एप्लीकेशन का मतलब यह है आप होम पेज की मदद से आपके पूरे वेब एप्लीकेशन को एक्सेस कर सकते है आपको कोई BACK और NEXT बटन को दबाने की जरुरत नहीं पड़ेगी |
  4. एंगुलर JS आपको लाइटवेट एप्लीकेशन बनाने में मदद करता है | और लाइटवेट एप्लीकेशन ब्राउज़र में हमेशा जल्दी load और ओपन होता है|
  5. एंगुलर JS का उपयोग करके आप कम समय के अन्दर एप्लीकेशन को तैयार सक सकते है |
  6. एंगुलर JS के नए Version में लॉन्ग टर्म सपोर्ट का फायेदा मिल रहा है इसका मतलब यह है की अगर आपके एप्लीकेशन में किसी भी प्रकार की तकनीकी समस्या आती है तब आप एंगुलर गूगल डेवलपर टीम आपकी मदद करेगी |
  7. आप गूगल के जितने एप्लीकेशन उपयोग करते वो सब एप्लीकेशन गूगल कंपनी ने एंगुलर फ्रेमवर्क की मदद से बनाये है | जैसे की गूगल मैप , गूगल न्यूज़ ,गूगल कैलेंडर,गूगल फोटोज ,गूगल मीट जैसे लगभग 200 से ज्यादा एप्लीकेशन गूगल कम्पनी ने फ्रेमवर्क की मदद से बनाया है |

एंगुलर JS कोनसा नया  VERSION आया है  

एंगुलर JS का नया version 1.8.0 अभी तक का सबसे लेटेस्ट version है जो लॉन्ग टर्म सपोर्ट के साथ उपलव्ध है | 2021 तक   लॉन्ग टर्म सपोर्ट में है |


एंगुलर फ्रेमवर्क से  एप्लीकेशन बनाने के लिए आपको क्या-क्या आना चाहिए- [Angular Kya Hai in Hindi]

  • HTML: 
    • html लैंग्वेज  डाटा के रिप्रजेंटेशन के लिए उपयोग किया जाता है |
  • CSS :
    • css का उपयोग html डॉक्यूमेंट को ब्यूटीफुल बनाने के लिए उपयोग  किया जाता है |
  • JS :
    • javascript प्रोग्रामिंग  का उपयोग क्लाइंट side वेलिडेशन और इंटरेक्शन और server पर load कम करने के लिए उपयोग किया जाता है |
  • DATABASE:
    • डेटाबेस का इस्तेमाल हम डाटा को स्टोर करने के लिए करते है |
    • Mongo-db , Sql Sever ,Oracle
  • APPLICATION SERVER :
    • एप्लीकेशन Server का इस्तेमाल क्लाइंट की रिक्वेस्ट के अनुसार   Responce को generate करना ओए क्लाइंट (यूजर) को output सेंड करना |
    • Node-js, JSP ,Python ,
  • MIDDLEWARE :
    • मिडिलवेयर नेटवर्क कम्युनिकेशन  पर एप्लीकेशन को हैंडल करता है
    • Express JS, JBOSS
  • WEBSERVER :
    • वेब server का इस्तेमाल एप्लीकेशन को तैयार करने के लिए किया जाता है | और वेब server यूजर की रिक्वेस्ट को वेरीफाई करता है और और फिर midddlewear को सेंड करता है आगे प्रोसेस के लिए |
    • IIS, Tomcat
  • IDE: 
    • IDE(Integrated Development Environment ) की मदद से आप अपने एप्लीकेशन को डिजाईन , डिबग ,और टेस्ट कर सकते है |
    • VS-CODE , NOTEPAD++, web Strom
SPA सिंगल पेज एप्लीकेशन क्या होता है -[Angular Kya Hai In Hindi] 
आज के समय में हम इन्टरनेट पर सिंगल पेज एप्लीकेशन देख रहे है | सिंगल पेज एप्लीकेशन वह एप्लीकेशन होता है जिसके द्वारा यूजर एक सिंगल पेज  की मदद से पूरे एप्लीकेशन को एक्सेस कर सकता है अब आप सोच रहे होंगे की यह कोनसा नया तरीका है एप्लीकेशन चलाने का है आइये हम जानते है कुछ सिंगल पेज एप्लीकेशन के बारे में |
  • FACEBOOK:    फेसबुक एक सिंगल पेज एप्लीकेशन है जिसको आप अपने दैनिक जीवन में उपयोग कर रहे हो |
  • TWITTER:  ट्विटर वर्ल्ड में आने वाला सबसे पहला पेज  एप्लीकेशन है |
  • GMAIL: जी-मेल भी एक सिंगल पेज एप्लीकेशन है |
  • GOOGLE -MAP : यह भी एक सिंगल पेज एप्लीकेशन है :

PROGRESSIVE वेब एप्लीकेशन क्या होता है 
प्रोग्रेसिव वेब एप्लीकेशन वह एप्लीकेशन है जो आपको app  की तरह यूजर इंटरफ़ेस और UX(User एक्सपीरियंस ) देखने को मिलता है जिसको देखकर आप आश्चर्य में हो जायेगे की यह वेब एप्लीकेशन है या वेबसाइट या फिर कोई software है |
 आप इस एडवांस फोटोशोप को देख सकते है यह एक प्रोग्रस्सिवे वेब एप्लीकेशन है https://www.photopea.com/
गूगल का नया एंगुलर प्लेटफार्म  क्या है  – [Angular Kya Hai in Hindi]
एंगुलर एंगुलर JS से बिलकुल अलग है | एंगुलर एक डेवलपर प्लेटफार्म है जहा पर डेवलपर End to End Application को develop कर सकता है | ये एंगुलर js का अपग्रेड / Rewrite version है | यह प्लेटफार्म आपको एंगुलर js से बेहतर प्लेटफार्म प्रदान करता है एप्लीकेशन develop करने के लिए | एंगुलर का नया version ANGULAR -10 है जो अभी 2020 में गूगल कंपनी ने release किया है |

निष्कर्ष : angular kya hai in hindi की इस पोस्ट में हमने देखा की ये फ्रेमवर्क kya है और इसे किसने बनाया है | और हम इस फ्रेमवर्क के मदद से किस प्रकार के एप्लीकेशन बना सकते है | हम आशा करते है की आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई होगी धन्यवाद |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here